रविवार, 13 जून 2010

शराब का समंदर,एक टाईटैनिक और हम डूबने वाले

( कल रात टाईटैनिक देखते-देखते कुछ ख्याल आया था )


                          क्या होता गर शराब का समंदर होता    
                          क्या तब भी तुम डूबने से डरते ?
                          कम से कम मैं तो नहीं
                          देखते तुम भी समंदर का रंग
                          कितना सुर्ख होता
                          पी- पा के टल्ली समंदर
                          तुम्हे डूबने कहाँ देता
                         मौजो की चादर होती प्यारी सी
                         तुम लेट ही जाते उसपर
                         डूबने वाले तो हम है ना
                         टाईटैनिक की कहानी अलग सी बनाते
                         तब हम मजबूरी में नहीं
                         जहाज से कूद के शराबी मौजो से
                         खेलते,
                         आहा,, कितना मज़ा आता ना
                         मुझे तो तैरना भी नहीं आता
                         डूबते-उतराते नाक, मुह, कान
                         में शराब ही शराब
                         तब साली मौत भी डरने लगती
                        कहती ऐसा डूबने वाला पहले नहीं देखा !!!
           

3 टिप्‍पणियां:

  1. टाइटेनिक देखते देखते कुछ ऐसा ही ख्याल हमें भी आया था...सुपर,गज़ब..और क्या कहें ...बहुत अच्छा!!!

    उत्तर देंहटाएं